Coronavirus – 22 मार्च को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक रहेगा कर्फ्यू : PM Narender Modi

narender modi

भारत में कोरोनावायरस के 177 मामले सामने आये हैं। वहीँ दुनिया भर में Coronavirus से संक्रमित लोगों की कुल संख्या 2 लाख से ज्यादा हो चुकी है। इससे मरने वाले लोगों की तादाद 8800 पर पहुँच गयी है। PMO ने बुधवार को ट्वीट करके बताया था कि पीएम मोदी ने उच्चस्तरीय बैठक की है जिसमे उनोहने COVID-19 से निपटने के उपायों पर चर्चा की।

देश में कोरोनावायरस महामारी का संक्रमण अभी दूसरे स्टेज पर ही है। यानी अभी इसका संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक ही फ़ैल रहा है और तीसरे स्टेज में यह इसका संक्रमण किसी कम्युनिटी या लोगों की भीड़ में फैल सकता है।

क्या बोले Narender Modi:

पिछले दो महीनों से पूरा देश कोरोनावायरस के संकट से जूझ रहा है। PM मोदी ने कहा की, फिलहाल लोगों को खाने-पीने के सामान का संग्रह करने की आवस्यकता नहीं है। खाने-पीने की चीजों की आपूर्ति सामान्य रूप से जारी रहेगी। आप सामान्य तौर पर जैसे खरीदारी करते थे अभी भी वैसे ही कीजिए।

Image result for narendra modi news in hindiअभी हमें पूरा सामर्थ्य खुद को कोरोना से बचाने पर लगाना है। आपको भी इसमें अपना पूरा योगदान देना है।

पीएम मोदी ने कहा कि, उनोहने कोरोनावायरस के संकट को देखते हुए फाइनेंस मिनिस्टर Nirmala Sitharaman के साथ बातचीत करके COVID 19 Economy Task Force बनाने का फैसला किया है। यह हर परिस्थिति का आंकलन करते हुए निकट भविष्य में फैसले लेगी।

मोदी जी ने आम आदमी के आर्थिक हितों का ध्यान रखते हुए कंपनियों से गुजारिश की है कि अगर कोई कर्मचारी दफ्तर ना आ पाए या घर से काम न कर पाए तो उसका वेतन न कटा जाए। ध्यान रखिएगा कि उन्हें भी अपने परिवार को बीमारी से बचाना है।

पीएम मोदी ने कहा कि सरकारी सेवा, अस्पताल और मीडिया की सक्रियता जरूरी है लेकिन जिन लोगों के लिए जरूरी नहीं है वह घर से बाहर ना निकलें। मैं एक और चीज मांगता हूं कि जनता कर्फ्यू लगाया जाए। 22 मार्च, रविवार को सुबह 7 बजे रात 9 बजे तक जनता कर्फ्यू का पालन करे।

पीएम मोदी ने कहा कि अगर आपको ये लगता है कि आप घूमेंगे और आप कोरोना के संक्रमण में नहीं आएंगे तो यह सोचना गलत है। क्योंकि ऐसा करके आप अपने और अपने परिवारवालों को भी खतरे में डालेंगे। और ख़ास कर अपने घर के बड़े बुजुर्गों को घर से बाहर न जाने दें। क्योँकि पाया गया है कि Coronavirus सीनियर सिटीजन्स (बड़े बुजुर्गों) को बहुत जल्दी से चपेट में ले लेता है।

जनता कर्फ्यू के दिन क्या करें?

पिछले दो महीने से लाखों लोग अस्पतालों में, शहर की गलियों में, दिनरात काम में जुटे हुए हैं। कुछ लोग डिलीवरी के काम में लगे हुए हैं। आज देखा जाए तो ये सेवाएं सामान्य नहीं मानी जाएंगी। संक्रमण के खतरे के बावजूद ये अपना कर्तव्य निभा रहे हैं। ये कोरोना महामारी और हमारे बीच एक शक्ति बनकर खड़ा है।

22 मार्च रविवार को हम ऐसे लोगों को धन्यवाद कहें। इस दिन हम शाम 5 बजे सिर्फ 5 मिनट के लिए अपने दरवाजों और खिड़कियों पर खड़े होकर अपनी कृतज्ञता प्रकट करेंगे। आप ताली बजाकर, थाली बजाकर ऐसा कर सकते हैं। ठीक 5 बजे साइरन बजाकर यह सूचना सबको दी जाएगी। सेवा परमो धर्म के लिए हमें आभार वयक्त करना चाहिए। हमें यह भी ध्यान रखना चाहिए कि अस्पतालों पर अब बोझ ना बढ़े। रूटीन चेकअप के लिए अस्पताल जाने से बचना चाहिए। बहुत जरूरी हो तो किसी जान पहचान वाले डॉक्टर या रिश्तेदार में किसी डॉक्टर से फोन पर बात कर सकते हैं।

पीएम मोदी ने कहा, कि कोरोनावायरस को हल्के में नहीं लेना चाहिए। इसकी वजह से पूरी मानव जाति खतरे में पड़ गई है।

 

 

 

Related News

Leave a Comment